मुझे आदत नहीं बातों की………….

मुझे आदत नहीं बातों की कुछ कर दिखाना चाहती हूं रात को रवि धरती को स्वर्ग बनाना चाहती हूं

मेरी मंजिल के दरवाजे भले ही बंद हैं हिम्मत और मेरे हौसले बुलंद है । फनाह कर सकूं दरिंदों को ऐसी साजिश बनना चाहती हूं। दिवाली में रंग, में होली में आतिश चाहती हूं ।

सामने मेरे पहाड़ बड़े या दीवारें कितनी ही ऊंची हो मुझ से टकराने वालों की आंखें हमेशा नीची हो । जीत ना पाऊं फिर भी मुकाबला करना चाहती हूं । इतिहास के पन्नों में अपना भी नाम लिखना चाहती हूं।

क्यों है रहा में हमें इतने काटे दिए हैं। क्यों हर मंथन के विष हमने पिए हैं।

सहानुभूति का पात्र नहीं ,मैं विश्वास चाहती हूं। ज्यादा कुछ नहीं बस थोड़ा सम्मान चाहती हूँ

सोनम शर्मा

No Matter what you think Iam going to 🤘 rock

REGRET

Kuch Nami meri akho mai.toh kuch Aj mossum Mai hai

Jitna khara paani ye Pinne Mai hai usse khi jyada khaalipan mere seene Mai hai

Vo gujra samay hai mera vapas hath jodhkr na ayega

Mujhe kya pta tha Itna daravana sapna hoga Jo khud tutkr Mujhe Itna thod jayega

Aree!!! Nhi vo admi toh shi tha mujhme hi hogi kuch kami ye khekr na jane kitni baar khud ko kosa

Dusro Pr Kya kru etbaar Ab toh khud Pr hi krne se daar lagta hai log khete hai jise bharosa

Khushi mai toh duniya hasti hai chot lagne pr bhi ghayal kese haste hai ye baat bta gya

Duniya ko rangmach bol kr meri zindagi ko hi natak bna gya

Mai janti Hu pr manti nhi ki Tu mera gunhegaar hai tujhse nafraat krne ki wajah das hogi

Pr pyarr krne k bhane bhi toh hajhaar hai

Agr khabi dikhu raste mai toh ye Bta Dena Kyu mere pyaar ka ye silha diya

Ha!! Suna toh tha Maine diltute ashiqo ki shayari kamal hoti hai isliye sukhrgujaar hu Teri anjanne mai hi shi tune mujhe likhna toh sikha dia

Create your website at WordPress.com
Get started